आँखों की रौशनी छीन सकती है स्मोकिंग । Smoke can take away the eyesight

आँखों की रौशनी छीन सकती है स्मोकिंग । Smoke can take away the eyesight

Aankho ki Roshni chin sakti h smoking

ज्यादातर लोग मानते है् कि स्मोकिंग यानी धूम्पान करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है क्यो्कि इससे कैंसर और फेफड़ो को दूसरे रोगो का खतरा होता है। मगर क्या आप को पता है कि धुम्रपान की लत आपको अंधा भी बना सकती है। ज्यादा स्मोकिंग करने से इसका असर आंखो् पर और शरीर के अन्य कई अंगो् पर भी पड्ता है। आइए आपको बताते है् की सिग्रेट और अन्य तम्बाकू उत्पाद कैसे आपकी आँखों पर प्रभाव डालती है।

 स्मोकिंग करने से ब्लड में बढ़ जाती है निकोटिन की मात्रा

Smoking Karney Se Blood May Nicotine ki matra badh ati h

सिगरेटे , बीडी और गुटखे मे् निकोटिन यूक्त तंबाकू होता है। निकोटिन का आपके शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव पड्ता है। लंबे समय तक धूम्पान करने वालो् की आंखो् मे् जलन की समस्या सामान्य होती है। ये इस बात का संकेत होता है की सिगरेटे का असर आपकी आंखो् पर पड़ना लगा और समय रहते इसे बंद नही् किया गया तो रेटिना को नुकसान पहुंच सकता है। हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज के रोगियों को धूम्पान बिलकुल भी नही् करना चाहिए,क्योकि इससे रक्त मे् निकोटिन की मात्र बढ जाती है, जो रेटीना के रलए बहुत ही खतरनाक होती है।

सेकंड हैण्ड स्मोकिंग करना भीं है खतरनाक

Second Hand Smoking Karna Bhi Hai Dangerous

कई बार आप सिगरेटे नही् पीते है् मगर आपके आस-पास मौजूद लोग जैसे की दोस्त, ररश्तेदार, परिवार के सदस्य या सफर के दौरान साथ मे् यात्रा करने वाले लोग पीते है्। ऐसे मे् सिग्रेट न पीने के बावजूद इसका धुंआ आपके फेफड़े मे् भी जाता है, जिससे आप भी उतने ही प्रभावित होते है्, जितने एक सिग्रेट पीने वाला व्यक्ती। इसलिए सेकंड है्ड स्मोकिंग भी खतरनाक हो सकती है।

स्मोकिंग करने से कम हो जाती है आंखों की नमी

Smoking Karne se Dry Ho Jati h Aankhe

सिगरेटे मे् मौजूद कई ऑक्सीडे्ट्स आंखो् को नुकसान पहुंचाते है्। धूम्पान करने वालो् की आंखो् को तंबाकू के जहरीले धुएं मे् मौजूद रसायनो् सेकंजस्कटवा के ग्लोबलेट सेल्स छतिग्रस्त हो सकते है्, जिनके कारण आंख की सतह पर नमी बनी रहती है। इसी तरह धुएं में मौजूद कार्बन पार्टिकल्स हमारे पलको् पर जमा हो सकते है्, इसके कारण आंखो् की नमी और गीलापन खव्म हो सकता है। अगर यह लंबे समय तक बना रहे तो आंखो् मे् खुजली होती है और नजर मे् धुंधलापन हो सकता है। इससे आंखो् की रोशनी भी जा सकती है।

स्मोकिंग करना डायटबिीज के मरीजों को जंयादा खतरा

Smoking karna jada khatarnak hai daibeaties patients k liye

धूम्पान करने वालो् को थाइरोइड, मधुमेह और उच् रक्तचाप की समस्या हो सकती है। इन बीमाररयो् के कारण नजर पर प्रभाव होती है। डायबिटीज के रोगियों मे् डायबिटिक नयूरोपेथी की बीमारी हो जाती है, इसके कारण आंखो् की रोशनी कम हो जाती है। डायबिटीज के रोगी अंधेपन के सिकार भी हो सकते है्।

मोतियाबिंद और मैक्युलर डेंजरस

Smoking karne se motiyabind k khatra


स्मोकिंग के जरिये तंबाकू के संपर्क मे् आने वाले लोगो मे् दूसरो् के मुकाबले मोतियाबिंद होने का खतरा अधिक होता है। इसी तरह मैक्युलर पोलर किस्म के कैटरेक्ट भी इन्ही् लोगो को छोटी उम्र से ही होने लगते है्। कई अध्ययनो् से पता चला है की स्मोकिंग करने वाले लोग को दूसरो् के मुकाबले उम्र आधारित मेक्यूलर डीजनरेशन का जोखिम दोगुना होता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

थायराइड होने पर इन घरेलू उपचार को करे Do these home remedies when thyroid is present

मोटापा कम करने के लिए रामदेव बाबा के 15 योग आसन। Baba Ramdev yoga

ऐसे करे् त्वचा के लिए मेथी का प्रयोग Use a fenugreek for this purpose